6/16/10

राजभवन के गमले टूटे + पत्रकार का हाथ टूटा = झारखंड राष्ट्रपति शासन के हवाले





आकाश सिंह

करीब 35 दिनों तक झारखंड में राजनीतिक उठा पटक का दौर चला, नेताओं के साथ साथ पत्रकार भी बेचैन रहे, राजनीतिक हालात की पल पल बदलती तस्वीर जो उनको चैनल को देनी थी. प्रिंट हो या इलेक्ट्रोनिक मीडिया सभी पत्रकारों की दौड़ नेताओं और मंत्रियों के आवासों से लेकर एयरपोर्ट और रेलवे स्टेशनों तक रही. पत्रकारों की फ़ौज के सामने कभी कभी नेता मेमने की तरह कुलांचे मारते हुए, भागते भी देखे गए तो कभी मीडिया कर्मी आपस में उलझते हुए भी दिखे. बाईट लेने की आपधापी में कई के कैमरे तो टूटे ही वहीं खबरों की टोह लेने में कई पत्रकार भी घायल हुए.

ये तो हुई नेताओं और पत्रकारों के बीच का मामला जो आये दिन होता रहता है. लेकिन अगर महामहिम राज्यपाल के यहां भी यही नजारा देखने को मिले तो वाकई ये शर्मनाक है. हुआ यूं कि राजनीतिक नौटंकी में मदारी के बन्दर की तरह नाचते पत्रकार और मदारी की तरह नचाते नेताओं का राजभवन समर्थन वापस लेने या फिर इस्तीफा देने का सिलसिला कई दौरों तक चला. झारखंड के इस राजनितिक उठापटक के इस दौर में लोकल स्तर से लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर की खबरिया माध्यमों के पत्रकार इनके पीछे पीछे दौड़ते रहे. क्योंकि खबर हर कीमत पर जो उन्हें देनी थी.
हम आपको पहले बीजेपी के सरकार से समर्थन वापसी के समय हुई घटना के बारे में बता दें. हुआ यूं कि जब बीजेपी सरकार से समर्थन वापसी की गयी तो मीडिया का पूरा हुजूम भी पीछे पीछे दौड़ पड़ा. नेता तो वैसे भी करीब एक महीने से चली आ रही नौटंकी के कारण मुंह दिखाने के काबिल नहीं रह गए थे इसलिए वे पत्रकारों से भागते फिर रहे थे, इसी भाग दौड़ में बीजेपी के नेताओं के राय जानने को बेताब पत्रकारों का हुजूम जब उनकी ओर लपका तो सुरक्षा कर्मियों ने पत्रकारों को पीछे धकेलना शुरू कर दिया फिर क्या था राज भवन के परिसर में रखे गए करीब 15 गमले खबर की भेंट चढ़ गए.
ये तो हुई बीजेपी के समर्थन वापसी के समय की घटना अब शाम के वक़्त गुरूजी यानि तत्कालीन मुख्यमंत्री झारखंड, शिबू सोरेन को राज्यपाल का बुलावा भेजा गया कि आप अब कैसे अपनी सरकार बचायेगे. गुरूजी के राजभवन आने की सूचना सुनकर कुत्ते की नींद में सोने वाले पत्रकारों की आँखे खुल गयी, एक बार फिर मीडिया जगत का पूरा जत्था राजभवन की ओर कूच कर गया. गुरूजी के राज्यपाल से मिलकर बाहर निकलते ही सभी मीडिया बंधु उनपर टूट पड़े. फिर होना क्या था. करीब 21 गमलों की फिर कुर्बानी चढ़ गयी. एक दिन में झारखंड की राजनीति पर राजभवन जैसे सम्मानित स्थल के 36 गमले की बलि चढ़ाई गई.
इस राजनीतिक उठापटक का अंत और भी रोचक है, हुआ यूं की जब गुरूजी को लगा की अब सरकार तो मेरी बचेगी नहीं सो उन्होंने शक्ति परीक्षण से एक दिन पहले यानि 30 मई को अपना इस्तीफा देने राजभवन पहुंचे उस दिन भी वही हुआ जो पहले होता आया था पत्रकारों और नेताओं के चूहे बिल्ली के खेल में 9 गमले और टूटे, तो कुल मिलाकर 45 गमलों ने झारखंड की बलखाती राजनीति में अपना जीवन न्योछवर कर दिया.
तो भैया जब राजभवन का इतना नुकसान हुआ तो इसकी भरपाई के लिए सजा तो आखिर किसी न किसी को मिलनी ही थी, और सजा मिली भी, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष रघुवर दास जब राज्यपाल से मिलकर निकल रहे थे तब रीजनल न्यूज़ चैनल के एक वरिष्ठ पत्रकार ने रघुवर जी से राज्यपाल से मिलने के विषय के बारे में जानकारी लेनी चाही और अपना माइक गाड़ी में बैठ चुके रघुवर दास के खिड़की से अन्दर कर दिया , झारखंड की राजनीति में अचानक फर्श से अर्श पर पहुंचे और बौखलाए तत्कालीन उप मुख्यमंत्री महोदय ने बिना कुछ बोले गाड़ी का पावर विंडो बंद कर दिया जिसकी वजह से खिड़की से अन्दर अपना हाथ डाले संवाददाता महोदय का हाथ शीशे से दब गया और हाथ फ्रैक्चर हो गया.
फिर अगले दिन महामहिम की सिफारिश पर झारखंड में राष्ट्रपति शासन लग गया. तो देखा बंधुवर कैसे गमले की बलि के साथ पत्रकारों को चोट लगी और झारखंड को राष्ट्रपति शासन का मुंह देखना पड़ रहा है.

1 comment:

indli said...

नमस्ते,

आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।